सोमवार, 15 फ़रवरी 2021

भारतीय पुनर्जागरण- सारगर्भित नोट्स - Indian Renaissance- बी.ए. तृतीय वर्ष हेतु

 

https://bulletprofitsmartlink.com/smart-link/55678/4

आधुनिक भारतीय पुनर्जागरण –

1707 में मुगल सम्राट औरंगजेब की मृत्यु के पश्चात भारत में एक शक्तिशाली केंद्रीय सत्ता के अभाव में सम्पूर्ण देश के अंतर्गत अव्यवस्था तथा अराजकता का बोलबाला था। मराठो तथा सिक्खों ने साम्राज्य की जड़ें हिला दी थीं। उसी समय भारत में यूरोप में विकसित औद्योगिक तथा व्यावसायिक क्रांति से लाभांवित तथा नए वैज्ञानिक साधनों एवं ज्ञान से सुसज्जित अंग्रेज जाति ने न केवल भारत में, अपितु समस्त एशियाई देशों में प्रवेश किया। भारत में उसने अपना प्रभुत्व स्थापित कर लिया।

1757 ई. से 1857 ई. के काल में भारत में ब्रिटिश साम्राज्य का विस्तार हुआ और शक्तिशाली बन गया। ब्रिटिश साम्राज्यवादियों ने देशी राज्यो को हड़पने , उनके साथ अन्याय करने , जनता पर अत्याचार तथा शोषण करने के परिणामस्वरूप 1857ई. की क्रांति हुई। यद्पि यह क्रांति सफल न हो सकी किंतु इस क्रांति के परिणामस्वरूप ईस्ट इंडिया कम्पनी का शासन समाप्त हो गया और उसके स्थान पर ब्रिटिश ताज के हाथ में सत्ता आ गई। 1857ई से 1885ई का काल राजनीतिक अशांति एवं बेचैनी का काल था। सम्पूर्ण देश में अंग्रेजों के विरुध्द असंतोष की ज्वाला धधकने लगी थी। अंग्रेजी शिक्षा का प्रचलन विदेशी शासकों ने अपने स्वार्थ के लिए किया था, ताकि शासन के कार्यों में उन्हे अंग्रेजी पढ़े भारतीय क्लर्क मिल सकें। किंतु इसका प्रभाव भारतीयो के लिये अनुकूल तथा ब्रिटिश उद्देश्यो के प्रतिकूल सिध्द हुआ।

अंग्रेजी शिक्षा के माध्यम से पाश्चात्य देशो के विद्वानो, विचारकों, व्यवस्थाओ , क्रांतियो, संस्थाओ आदि के सम्बंध में ज्ञान होने से भारतियो में स्वतंत्रता, समानता तथा लोकतंत्र की भावना जाग्रत हुई। अत: उनमेन भारत की पराधीन अवस्था को देखकर भारी क्षोभ तथा बेचैनी हुई। इसी बीच भारत में सामाजिक तथा धार्मिक सुधार आंदोलनों ने राष्ट्रीय चेतना जाग्रत की। बढते असंतोष को देखकर 1885 में ए.ओ. ह्यूम ने राष्ट्रीय कांग्रेश की स्थापना की, जिससे बढ़्ते असंतोष को संवैधानिक रूप दिया जा सके और ब्रिटिश साम्राज्य को क्रांति की ज्वाला से बचाया जा सके। किंतु राष्ट्रीय कांग्रेस के नेताओ ने भी भारतीय पुनर्जागरण का प्रतिनिधित्व किया।

पुनर्जागरण का अर्थ-

पुनर्जागरण का आशय किसी भी राष्ट्र या देश के जीवन में एक नवीन स्फूर्ति, नए उत्साह, नयी उमंग व जोश अथवा गौरव के युग से होता है। इसे उस राष्ट्र या देश के जीवन में बसंत ऋतु का कारण माना जा सकता है।

परिभाषाएं-

1   - "पुनर्जागरण” किसी भी देश की विकास की अवस्था में एक दीर्घकाल के पश्चात फिर से उन्नति की ओर बढ़ने की अवस्था का नाम है।

2.  - "पुनर्जागरण का अर्थ है कि कुछ समय की निद्रा के उपरान्त राष्ट्र के मानस , आत्मा अथवा मन- मस्तिष्क का जाग्रत होना, यह राष्ट्रीय आत्मा की सुषुप्त जीवन- शक्ति का सृजनशील क्रिया में प्रस्फुटित होना होता है।"

-मुख्य रुप से पुनर्जागरण के निम्न कारण थे-

1. भारत की राजनैतिक एकता

2. विदेशों से सम्पर्क

3. यातायात तथा संचार के साधनों का विकास

4. पाश्चात्य शिक्षा

5. पाश्चात्य विद्वानों द्वारा भारत के लुप्त अतीत की खोज

6. पाश्चात्य सभ्यता

7. ईसाई मिश्नरियों के क्रिया-कलाप

8. यूरोप का बौध्दिक पुनर्जागरण

9. समाज सुधारको का प्रभाव

10. भारत की तत्कालीन सामाजिक, आर्थिक दशा आदि।

इस सांस्कृतिक जागरण का मुख्य आधार राजा राममोहन राय थे। "भारतीय नवजागरण के जनक" के रूप में विख्यात, राममोहन राय एक महान देशभक्त, विद्वान और मानवतावादी थे। उन्हें देश के लिए गहरे प्यार से स्थानांतरित किया गया और भारतीयों के सामाजिक, धार्मिक, बौद्धिक और राजनीतिक उत्थान के लिए जीवन भर काम किया। आधुनिक भारतीय पुनर्जागरण की यात्रा में अनेक समाज सुधारक एवं विचारक अपना योगदान दिए ,जिनमें प्रमुख रुप से राजाराम मोहन राय , देवेंद्र नाथ टैगोर, ईश्वर चंद्र विद्यासागर ,स्वामी दयानंद सरस्वती, महादेव गोविंद रानाडे, एनीबिसेण्ट आदि थे। 

 राजा राममोहन राय-

राजा राममोहन राय 
https://bulletprofitsmartlink.com/smart-link/55678/4


राममोहन राय का जन्म 1772 में बंगाल के एक छोटे से गाँव राधानगर में हुआ था। एक युवा के रूप में उन्होंने वाराणसी में संस्कृत साहित्य और हिंदू दर्शन और पटना में फारसी, अरबी और कुरान का अध्ययन किया था। वह एक महान विद्वान रॉय थे जिन्होंने अंग्रेजी, लैटिन, ग्रीक और हिब्रू सहित कई भाषाओं में महारत हासिल की।राममोहन राय ने सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ लगातार संघर्ष किया। उन्होंने तर्क दिया कि प्राचीन हिंदू ग्रंथ वेद और उपनिषद एकेश्वरवाद के सिद्धांत को मानते हैं। अपनी बात साबित करने के लिए उन्होंने वेदों और पाँच उपनिषदों का बंगाली में अनुवाद किया।राजा राममोहन राय  के द्वारा सती प्रथा का कड़ा विरोध किया गया। 


1849 में उन्होंने फारसी में एकेश्वरवाद को उपहार लिखा। राममोहन राय वेदांत (उपनिषदों) के दर्शन में कट्टर विश्वास थे और मिशनरियों के हमले से हिंदू धर्म और हिंदू दर्शन का सख्ती से बचाव किया था। वह केवल हिंदू धर्म को उम्र की आवश्यकताओं के अनुरूप एक नए कलाकारों में ढालना चाहता था।


देबेंद्रनाथ टैगोर- 


 1839 में, उन्होंने राममोहन राय के विचारों के प्रचार के लिए तातवाबोधिनी सभा की स्थापना की। उन्होंने बंगाली भाषा में भारत के अतीत का व्यवस्थित अध्ययन करने के लिए एक पत्रिका का प्रचार किया। समाज ने सक्रिय रूप से देवेन्द्रनाथ टैगोर ने विधवा पुनर्विवाह, बहुविवाह के उन्मूलन, महिलाओं की शिक्षा और किसान की स्थिति में सुधार के लिए आंदोलनों का समर्थन किया।

रवींद्रनाथ टैगोर के पिता देवेंद्रनाथ टैगोर ब्रह्म समाज को पुनर्जीवित करने के लिए जिम्मेदार थे। उसके तहत ब्रह्म समाज को एक अलग धार्मिक और सामाजिक समुदाय में बदलने के लिए पहला कदम उठाया गया था। उन्होंने पारंपरिक भारतीय शिक्षा में सर्वश्रेष्ठ और पश्चिम के नए विचार का प्रतिनिधित्व किया।

 केशव चंद्र सेन-

केशब चंद्र सेन ने सामाजिक सुधार के एक गहन कार्यक्रम को आगे बढ़ाया। उन्होंने स्कूलों की स्थापना की, अकाल राहत का आयोजन किया और विधवा पुनर्विवाह का प्रचार किया। 1872 में सरकार ने ब्राह्म समाज के संस्कारों के अनुसार किए गए मूल (नागरिक) विवाह अधिनियम को वैध बनाने वाले विवाहों को पारित किया।

 

ईश्वर चंद्र विद्यासागर-


ईश्वर चंद्र विद्यासागर, जो उन्नीसवीं सदी के मध्य का व्यक्तित्व था, 1820 में बंगाल के एक गरीब ब्राह्मण परिवार में पैदा हुआ था। वह एक प्रसिद्ध संस्कृत विद्वान थे और 1851 में संस्कृत कॉलेज के प्राचार्य बने। संस्कृत कॉलेज ने उन्हें सम्मानित किया। संस्कृत के गहन ज्ञान के कारण 'विद्यासागर' का शीर्षक।

https://bulletprofitsmartlink.com/smart-link/55678/4


स्वामी दयानंद सरस्वती और आर्य समाज- The Arya Samaj-


19वी शता. में भारत जो भिन्न- भिन्न समाज तथा धर्म सुधार आंदोलन चलाए गए उनमे से स्वामी दयानंद सरस्वती द्वारा स्थापित “ आर्य समाज”  का आंदोलन सबसे अधिक व्यापक, प्रभावशाली व चिरस्थाई सिध्द हुआ। 1863 में स्वामी दयानंद ने अपने ईश्वर के सिद्धांत का प्रचार करना शुरू किया। उन्होंने अर्थहीन रिवाजों, बहुदेववाद और छवि पूजा को नकार दिया और जाति व्यवस्था की निंदा की। वह हिंदू धर्म को शुद्ध करना चाहता था और हिंदू समाज में व्याप्त बुराइयों पर हमला करता था।

उत्तर भारत में एक और संगठन जिसका उद्देश्य सुधार के माध्यम से हिंदू धर्म को मजबूत करना थाआर्य समाज था। राजकोट में आर्य समाज के संस्थापक दयानंद सरस्वती का जन्म 1824 मेंकाठियावाड़गुजरात में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। 14 साल की कम उम्र मेंउन्होंने मूर्ति पूजा की प्रथा के खिलाफ विद्रोह कर दिया था। वह बीस साल की उम्र में घर से भाग गया था। अगले पंद्रह वर्षों के लिएवह प्राचीन हिंदू शास्त्रों का ध्यान और अध्ययन करने के लिए पूरे भारत में घूमते रहे।

 

दयानंद सरस्वती का मानना था कि वेदों में ईश्वर द्वारा पुरुषों को प्रदान किया गया ज्ञान निहित है, और इसलिए इसका अध्ययन अकेले सभी सामाजिक समस्याओं को हल कर सकता है। इसलिए उन्होंने आदर्श वाक्य "बैक टू वेद" का प्रचार किया। यह कहते हुए कि वेदों में अस्पृश्यता, बाल विवाह और महिलाओं के वशीकरण का कोई उल्लेख नहीं है, स्वामी दयानंद ने इन प्रथाओं पर सख्ती से हमला किया।

दयानंद ने सुधी आंदोलन शुरू किया जिसने उन हिंदुओं को सक्षम किया जिन्होंने इस्लाम या ईसाई धर्म स्वीकार कर लिया था, उनके मूल धर्म में वापस आ गए। दयानंद ने अपनी धार्मिक टिप्पणियों को हिंदी में प्रकाशित किया ताकि आम लोगों को उनके उपदेशों को समझा जा सके। सत्यार्थ प्रकाश उनका सबसे महत्वपूर्ण कार्य था।

https://bulletprofitsmartlink.com/smart-link/55678/4

आर्य समाज के 10 सिध्दांत-

  • 1.  वेद ही सत्य ज्ञान हैं, अत: हिंदुओ के लिए वेदो का ज्ञान आवश्यक है।
  • 2.  वेदों में वर्णित विधि से मंत्र-पाठ तथा हवन करना।
  • 3.  मूर्तीपूजा का विरोध।
  • 4.  तीर्थयात्रा तथा अवतारवाद का विरोध्।
  • 5.  कर्म, पुनर्जन्म अथवा जीवात्मा के आवागमन पर विश्वास।
  • 6.  एक निराकार ईश्वर में विश्वास।
  • 7.  स्त्री शिक्षा को महत्व देना ।
  • 8.  बाल विवाह तथा बहुविवाह का विरोध।
  • 9.  कुछ विशेष परिस्थितियो में विधवा पुनर्विवाह का समर्थंन।
  • 10.    हिंदी व संस्कृत भाषा के प्रचार का समर्थंन ।

1867 में, महाराष्ट्र में हिंदू धर्म को सुधारने और एक ईश्वर की उपासना का प्रचार करने के उद्देश्य से प्रथाना समाज की शुरुआत हुई थी। महादेव गोविंद रानाडे और आरजी भंडारकर समाज के दो महान नेता थे। बंगाल में ब्रह्म समाज ने महाराष्ट्र में जो काम किया, वह प्रार्थना समाज ने किया।

 

महादेव गोविंद रानाडे- 


इसने जाति व्यवस्था और ब्राह्मणों की प्रधानता पर हमला किया, बाल विवाह और शुध्दि व्यवस्था के खिलाफ अभियान चलाया, विधवा पुनर्विवाह का प्रचार किया और महिला शिक्षा पर जोर दिया। हिंदू धर्म में सुधार के लिए, रानाडे ने विधवा पुनर्विवाह संघ और डेक्कन एजुकेशन सोसायटी की शुरुआत की। 1887 में, रानाडे ने पूरे देश में सामाजिक सुधारों की शुरुआत करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय सामाजिक सम्मेलन की स्थापना की। रानाडे भी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के संस्थापकों में से एक थे।

 थियोसोफिकल सोसायटी (The Theosophical Society)-

1875 में, मैडम ब्लेवत्स्की नाम के एक रूसी अध्यात्मवादी और कर्नल ओलकोट नामक एक अमेरिकी ने अमेरिका में थियोसोफिकल सोसायटी की स्थापना की। ये दोनो 1879 ई. में भारत आये और मद्रास के निकट दिसम्बर 1882 ई. में अडियार में अपने समाज का मुख्यालय स्थापित किया। इसके बाद इसकी शाखाएं सारे भारत में फैल गयीं। 1880 ई. में श्रीमती एनीबेसेंट इंग्लैंड में इस सोसाईटी की सदस्य बन गयीं। इनके आ जाने से इस समाज को बहुत बड़ा लाभ हुआ। 1893ई. में वे भारत आ गई। भारत में आकर उन्होने थियोसोफी के सिध्दांतो तथा आदर्शों  के प्रचार में अपनी सारी शक्ति लगा दी।


समाज कर्म के भारतीय सिद्धांत से बहुत प्रभावित था। 1886 में उन्होंने मद्रास के पास अड्यार में थियोसोफिकल सोसायटी की स्थापना की।

थियोसोफिकल सोसायटी का उद्देश्य -

1.  नस्ल, जाति, धर्म आदि के भेद्भाव के बिना विश्व – बंधुत्व का एक केंद्र स्थापित करना।

2.  धर्मों तथा दर्शनो के तुलनात्मक अध्ययन को प्रोत्साहन देना।

3.  प्रकृति के रहस्यो तथा मनुष्यों की अंतर्निहित शक्तियों का उद्घाटन देना।  

उन्होंने वैदिक दर्शन का प्रचार किया और भारतीयों से अपनी संस्कृति पर गर्व करने का आग्रह किया। थियोसोफिस्ट प्राचीन भारतीय धर्म और सार्वभौमिक भाईचारे के पुनरुद्धार के लिए खड़े थे।

आंदोलन की विशिष्टता इस तथ्य में निहित थी कि यह भारतीय धार्मिक और दार्शनिक परंपराओं को महिमा देने वाले विदेशियों द्वारा फैलाया गया था। एनी बेसेंट बनारस में सेंट्रल हिंदू कॉलेज के संस्थापक थे, जो बाद में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में विकसित हुआ। एनी बेसेंट ने खुद भारत को अपना स्थायी घर बनाया और भारतीय राजनीति में एक प्रमुख भूमिका निभाई। 1917 में, वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की अध्यक्ष चुनी गईं।

https://bulletprofitsmartlink.com/smart-link/55678/4


 

 

 

 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Modern History Quiz, question and answer in hindi ,B.A. 3rd year / सम्पूर्ण आधुनिक भारत का इतिहास प्रश्नोत्तरी , बी. ए. तृतीय वर्ष ,most important

 बी. ए. तृतीय वर्ष प्रश्न पत्र - प्रथम  के सम्पूर्ण आब्जेक्टिव सीरीज को हल करने के लिए नीचे प्रश्नों की श्रृंखला पर जाएं व सेल्फ स्कोर व्यू ...