भारत पर सिकंदर का आक्रमण , कारण एवं झेलम का युद्ध ( Invasion of Alexander, its cause and Battle of Hydespus)

  भारत पर सिकंदर का आक्रमण , कारण एवं झेलम का युद्ध ( Invasion of Alexander, its cause and Battle of Hydespus)

       सिकंदर मेसीडोन के राजा फिलिप द्वितीय का पुत्र था ।अपने पिता की मृत्यु के पश्चात वह 12 वर्ष की अवस्था में गद्दी पर बैठा। जैसे ही वह शासन की बागडोर सम्हाला वह अपनी महत्वकांक्षा के वशीभूत होकर विश्व विजय की कामना करने लगा।

      ऐतिहासिक स्रोत जैसे - मेगास्थनीज, स्ट्रेबो, प्लुटार्क, जस्टिन आदि के विवरणों से ज्ञात होता है कि जिस समय सिकंदर ने भारत पर आक्रमण करने की योजना बनायी उस समय भारत में नंद वंश का विशाल साम्राज्य था, जो  कि  आपसी राजनैतिक वैमनस्यता के कारण पतनोन्मुख था।



यानी कि पतन की ओर अग्रसर था. 

भारत पर सिकंदर का आक्रमण के प्रमुख तीन कारण दृष्टिगोचर होते हैं- 

1. सिकंदर की विश्व विजय की कामना

2. भारत की समृद्धि

3. भारत की राजनैतिक दशा

उपरोक्त तीन कारणों को फलीभूत  करने के लिए उसने 327 ई.पू. में भारत विजय की योजना बनाई। 



326 ई.पू. में हिंदुकुश की घाटियों को पार किया और कोहेदामन नामक स्थान पर पहुंच गया। 

कोहेदामन में कुछ समय रुककर सैनिक तैयारियां की। 

काबुल नदी के तट पर बसे निकाई नगर की तरफ कूच किया। 

सेना को दो भागों में बांटा। 

सिकंदर की सेना

प्रथम भाग का नेतृत्व उसके विश्वसनीय दो सेना पति हिफेस्टियन व पेरिडिक्का नेतृत्व कर रहे थे तथा दूसरे भाग का नेतृत्व स्वयं सिकन्दर कर रहा था।

अफगानिस्तान पर विजय प्राप्त करने के पश्चात सिकंदर 326 ई. पूर्व. मे सिन्धु नदी को पार किया और तक्षशिला राज्य की सीमा पर जा पहुंचा। 

वहां के शासक आम्भी ने सिकन्दर के साथ मित्रता कर अपनी मातृ भूमि के साथ विश्वासघात कर लिया। यही नही उसने सिकंदर को प्रेरित किया कि वह पंजाब के शासक पोरस पर आक्रमण करे।

तक्षशिला से आगे बढ़कर सिकंदर झेलम और चिनाव नदी के बीच बसे पुरू राज्य के नजदीक पहुंच गया। 

उसने देखा कि पोरस एक शक्तिशाली सेना के साथ युद्ध के लिए तैयार है। सिकन्दर के लिए नदी पार करना कठिन हो गया। दोनों सेनाएँ नदी के दोनों पार खड़ी-खड़ी दाँव-पेंच खेलती रही।

 सिकन्दर को नदी पार करने का रास्ता नही मिल रहा था, परन्तु उसने रास्ता चुनने की कोशिश की। रात के अंधेरे में जब आँधी और बर्षा बहुत तेज थी तब सिकन्दर ने अपने एक हजार योद्धाओं के साथ झेलम नदी पार कर ली। 

पोरस और उसके सैनिकों ने बहुत बहादुरी से युद्ध किया, लेकिन अन्त में पोरस का भाग्य इस तरह खराब निकला, पहला सिकन्दर की सेना नदी पार करके सिकंदर के पास आ गयी थी।

दूसरा कारण यह था कि उस दिन बारिश बहुत हुई जिसने पोरस की सेना को थका दिया। पोरस अन्तिम समय तक लड़ते रहे, और अंतत:  वे पराजित हो गये और उन्हे बंदी बना लिया गया।

परन्तु चीनी ग्रंथों में ऐसा माना जाता है कि झेलम के युद्ध में पोरस की जीत हुई थी और सिकंदर इसमें बुरी तरह परास्त हुआ था। विश्व विजय की कामना रखने वाला सिकंदर आखिर ऐसा क्या हुआ कि उसे झेलम के युद्ध के पश्चात लौटना पड़ा। एक सवाल जो हर भारतवासी के मस्तिष्क में कौंधता है। चूंकि अगर सिकंदर ,पोरस से जीत गया होता तो निश्चय ही वह पूरब की ओर आगे बढ़ता। सिकंदर के विषय में जितने भी उल्लेख प्राप्त होते हैं वे केवल यूनानी साहित्यों में ही मिले हैं, जो कि उस समय यूनान के गौरव की रक्षा करना यूनानी लेखकों के लिये महत्वपूर्ण माना जाता था। इसलिए उन्होंने हरसंभव सिकंदर को विजेता के रूप में दुनिया के समक्ष प्रस्तुत करना राष्ट्र रक्षा व धर्म समझा। इस विषय में हमें  और अधिक चीनी साहित्यों तथा अन्य ऐशियाई ग्रंथों का अध्य्यन व विश्लेषण करने की आवश्यकता होगी।

 जब सिकंदर ने पोरस को बंदी बनाकर पूछा कि “ तुम्हारे साथ किस प्रकार का व्यवहार करना चाहिए” तो पोरस ने उत्तर दिया-," जिस प्रकार एक वीर राजा दूसरे वीर राजा के साथ करता है," इस उत्तर को सुनकर सिकंदर बड़ा प्रसन्न हुआ और उसने पोरस को क्षमा करते हुए उसका राज्य भी उसे लौटा दिया।

सम्पूर्ण व्याख्यान का सारांश यह है कि हमने भारत में सिकंदर के आक्रमण के प्रमुख कारण को जाना, जिसमें प्रमुख कारण उसकी विश्व विजय की महत्वाकांक्षा, भारत की अपार सम्पदा, सिकंदर द्वारा पूर्व की अवधारणा तथा सबसे महत्वपूर्ण कारण भारत की तत्कालीन राजनैतिक परिस्थिति थी.  

जिसने उसे आगे बढ्ने की महत्वाकांक्षा को बल प्रदान किया। साथ ही हमने यह भी सीखा कि जब- जब राष्ट्र पर विपत्ति आती है उसके पीछे एकता तथा देश भक्ति की भावना की कमी ही सबसे महत्वपूर्ण होता है।

अध्ययन के दौरान हमने यह भी विश्लेषण किया कि कुछ देशद्रोहियों के कारण अगर देश में बिखराव की स्थिति पैदा होती है वहीं पोरस जैसे राष्ट्रभक्त वीरों के कारण राष्ट्र का गौरव बना रहता है।  

Quiz

सिकंदर कहां का शासक था?

भारत में सिकंदर का आक्रमण कब हुआ? 

सिकंदर के आक्रमण के समय भारत में किसका शासन था?

सिकंदर द्वारा बसाए गए प्रमुख नगर कौन से थे?

 सिकंदर किस नदी को पार करने में असफल रहा?

अपना उत्तर कॉमेंट बॉक्स में लिखें 👇👇👇

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ